Srirangapatna Fort, Location, Facts and History in Hindi

Srirangapatna Fort is a world famous Heavenly Palace situated in Mandya district at Srirangapatna city of Karnataka, India, Lat Long of Srirangapatna Fort is 12.425°N 76.676°E and address of Srirangapatna Fort, Srirangapatna, Mandya, Mysore, Karnataka, 571401, India, Srirangapatna Fort is situated 22 kilometres North East from Mysore Airport, kozhikode-mysore- kollegal highway, Mysuru, Karnataka 571311, 4 KM from Srirangapatna railway station and 3 KM from Srirangapatna bus stand, Srirangapatna Fort was built by Timmanna Nayaka in 1454, a ruler of Vijayanagar Empire that time.

Where is Srirangapatna Fort Located in Bijapur Karnataka India

Location Map of Srirangapatna Fort Bijapur in Karnataka India on Google Map

Facts about Srirangapatna Fort

Name Srirangapatna Fort
City Srirangapatna
Address Srirangapatna, Mandya, Mysore, Karnataka, 571401, India
District Mandya 
State Karnataka
Country India
Continent Asia
Came in existence 1454
Area covered in KM 607 km
Height 17 metres
Time to visit 9:00 am – 6:00 pm
Ticket time NA
Ref No of UNESCO NA
Coordinate 12.425°N 76.676°E
Per year visitors 500 year
Near by Airport Mysore Airport
Near by River kaveri

History of Srirangapatna Fort in Hindi

श्रीरंगपटना का किला 1454 ईस्वी में विजयनगर साम्राज्य के राजा तिम्मन्ना नयका ने करवाया था, वो उस समय चित्रदुर्ग के शासक थे, जब यहाँ पर टीपू सुल्तान का शासन काल आया तो उसने इस किले की फिर से मरम्मत करवाई, जिसमे उसने लाल महल और टीपू भी बनवाये थे जो की १७९९ में अंगेजो से लड़ाई के दौरान अंग्रेजो ने तोड़ दिए थे।

टीपू ने इस किले को फ्रेंच आर्किटेक्चर की सहायता से पुनर्निर्मित करवाया था किले में कई मंदिर और मस्जिदे भी बनवायी गयी है, इतिहासकारो की माने तो मंदिर किले के निर्माण के समय ही बनवाये गए थे, परन्तु मस्जिदे उनमे से कुछ मंदिरो को तोडा कर बनवायी गयी है।

श्रीरंगपटना के किले की इतिहास की बात करते है, विजयनगर साम्राज्य के बाद इस किले पर १४९५ ईस्वी में वाड्यार वंश के शासको ने अधिकार कर लिया था, इसके बाद अरकोट के नवाब के हाथो में गया फिर पेशवाओ के हाथो में और उसके बाद मराठो के हाथो में आ गया था, इस किले ने अपने इतिहास में कई शासको का कार्यकाल देखा, फिर हैदरअली के हाथो में भी गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *