Where is Qutub Minar in Mehrauli,New Delhi India.

Information about  Qutub Minar

Qutub Minar a world famous monumet is situated in Qutub Minar, city of  Mehrauli  district, a city in New Delhi, India, Lat Long of Qutub Minar , is 28.5244° N, 77.1855° E and address of Mehrauli, Seth Sarai, Mehrauli, New Delhi, Delhi 110030  , India. this Qutub Minar is only  the city of Mehrauli,  Qutub Minar , along with the near by Yamuna River.

Qutb Minar has been named after Qutb-ud-din Aibak, the emperor who commissioned its construction or Qutbuddin Bakhtiar Kaki, the famous Sufi saint.

Name Qutab Minar
City Delhi
Address Mehrauli, New Delhi, Delhi 110030
Country India
Continent Asia
Came in existence 1193
Built by Qutab-ud-din Aibak
Builder
Area covered in KM 1.5 km
Height 73 m
Time to visit 10 AM to 5 PM
Ticket time 7AM-5PM
When to visit January till December.
Unesco heritage
Ref No of UNESCO 233
Coordinate 28.5244° N, 77.1855° E
Per year visitors 3.9 million visitors every year.
Near by Airport IGI Airport
Near by River Yamuna River

Where is Qutub Minar, Located in New Delhi, Delhi 110030 India

Location of Qutub Minar, Located New Delhi, Delhi 110030 India. on Google Map

History of Qutab Minar in Hindi

best_time_to_visit_qutub-minar

दिल्ली के प्रथम मुस्लिम शासक कुतुबुद्दीन ऐबक, ने कुतुब मीनार का निर्माण सन ११९३ में आरम्भ करवाया, परन्तु केवल इसका आधार ही बनवा पाया। उसके उत्तराधिकारी इल्तुतमिश ने इसमें तीन मंजिलों को बढ़ाया और सन १३६८ में फीरोजशाह तुगलक ने पाँचवीं और अन्तिम मंजिल बनवाई। ऐबक से तुगलक तक स्थापत्य एवं वास्तु शैली में बदलाव, यहाँ स्पष्ट देखा जा सकता है। मीनार को लाल बलुआ पत्थर से बनाया गया है, जिस पर कुरान की आयतों की एवं फूल बेलों की महीन नक्काशी की गई है। कुतुब मीनार पुरातन दिल्ली शहर, ढिल्लिका के प्राचीन किले लालकोट के अवशेषों पर बनी है। ढिल्लिका अन्तिम हिन्दू राजाओं तोमर और चौहान की राजधानी थी।

क़ुतुब मीनार का इतिहास




इस मीनार के निर्माण उद्देश्य के बारे में कहा जाता है कि यह कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद से अजान देने, निरीक्षण एवं सुरक्षा करने या इस्लाम की दिल्ली पर विजय के प्रतीक रूप में बनी। इसके नाम के विषय में भी विवाद हैं। कुछ पुरातत्व शास्त्रियों का मत है कि इसका नाम प्रथम तुर्की सुल्तान कुतुबुद्दीन ऐबक के नाम पर पडा, वहीं कुछ यह मानते हैं कि इसका नाम बग़दाद के प्रसिद्ध सन्त कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी के नाम पर है, जो भारत में वास करने आये थे। इल्तुतमिश उनका बहुत आदर करता था, इसलिये कुतुब मीनार को यह नाम दिया गया।
कई इतिहासकारों ने जब क़ुतुब मीनार का निरिक्षण किया तो पाया की इसके आसपास बहुत से हिन्दू मंदिर थे, जिनको तोडा कर कई इस्लामिक इमारतों का निर्माण किया गया था, और जिसे क़ुतुब मीनार कहते है वो वास्तव में विष्णु स्तम्भ था, जिसको तत्कालीन सुल्तानों ने कुरान की आयेते खुदवा कर क़ुतुब मीनार नाम दे दिया।

Unknown facts about Qutb Minar

1- Qutb al-Din Aibak died when he was playing polo in Delhi
2- Son-in-law of Qutb al-Din Aibak, Iltutmish added three stories in the tower in year 1369.
3- Natural lightning destroyed top stories completely.
4- Firoz Shah Tughlaq added two new stories in place of damaged stories, and he added new stories every year.
5- Qutb Minar is made of red sandstone and white marble.
6- It become the part of historical monument of UNESCO in year 1993.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *