Mehrangarh Fort Rajasthan

Mehrangarh Fort is a world famous Historical Monument of Rajasthan located in Jodhpur is a City of Rajasthan under Jodhpur District, India, Lat Long of Mehrangarh Fort is 26.29784°N 73.01842°E while address of Mehrangarh Fort is P.B # 165, The Fort, Jodhpur 342006, Rajasthan, Mehrangarh Fort is only 9 km North West side from Jodhpur airport, Mehrangarh Fort was originally built by Rao Jodha in year 1460.

Facts about Mehrangarh Fort

Name Mehrangarh Fort
City Jodhpur
Address P.B # 165, The Fort, Jodhpur 342006, Rajasthan
District Jodhpur
State Rajasthan
Country India
Continent Asia
Came in existence 1460
Area covered 7.28 Hectares
Height 410 feet (125 m)
Time to visit 09:00 am – 5:30 pm
Ticket time No, But INR 70 to 800 for Museum Entrance
Ref No of UNESCO NA
Coordinate 26.29784°N 73.01842°E
Per year visitors 350000 to 500000
Near by Airport Jodhpur
Official Website mehrangarh.org
Official Contact No. +91-291-2548790/2548992/2541447

Where is Mehrangarh Fort Located in Rajasthan, India

Location of Mehrangarh Fort Located in Rajasthan India on Google Map

Is Mehrangarh Fort Haunted?

The answer of Is Mehrangarh Fort haunted? will be NO, becasue no one tourist of ASI person reported like this, while for the Bhangarh Fort ASI sure on the basis of tourist’s output, so Mehrangarh Fort is not haunted fort

History of Mehrangarh Fort in Hindi

मेहरानगढ़ का किला राजस्थान के राजपूतानी शान को दर्शाने वाला किला है, यह किला जोधपुर नगर में है जो की राजस्थान के जिले जोधपुर जिले के अंतर्गत आता है, इस किले का निर्माण १४६० में राओ जोधा ने करवाया था, जो की राठौर राजपूत थे, इस किले के अंदर राज चिन्ह पर लिखा हुआ भी है ‘रण बांका राठौर’ जो की उस काल की आन बान और शान को दर्शाता है।

इस किले के निर्माण के पीछे राओ जोधा का क्या उद्देस्य था ये तो नहीं पता लेकिन इस किले का निर्माण चारो तरफ से एक मोती दीवार के अंदर करवाया गया है जिससे एक बात तो पता लगती है की कही न कही सुरक्षा कारण ही मुख्य रहे होंगे, क्युकी इस किले के बायीं तरफ किरात सिंह सोडा की छतरी बनी हुयी है जो की इस किले की रक्षा करते हुए शहीद हुए थे, इसका मतलब साफ है की किले पर हमले तो हुए है।

इसकिले के सात दरवाजे है जिनमे से कुछ महाराजा मान सिंह ने बनवाये थे और उन्होंने नाम दिया था जयपोल, क्युकी ये द्वार उन्होंने जयपुर, उदयपुर और बीकानेर की सेनाओ को जीतने के बाद बनवाये थे, महाराजा अजित सिंह ने फतेहपोल बनवाया था क्युकी उन्होंने मुगल सेना को पराजित कर दिया था।

इस किले के अंदर संग्राहलय और अन्य देखने योग्य सामग्री है, समय समय पर यहाँ पर कार्यक्रम होते रहते है, यहाँ पर राजपूत काल के अनेक हथियार, चित्रकला के नमूने और गाड़िया भी है, इस किला मुख्य रूप से राजपुताना शैली का बना हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *