Facts about Sanchi Stupa, History of Sanchi Stupa in Hindi

Facts and History about Sanchi Stupa

Brief Description on Sanchi Stupa

Sanchi Stupa was originally made by emperor Ashoka in the 3rd century before christ, he was most powerful emperor of Maurya Dynasty, when he converted into buddha darm from hindu dharm, he created this stupa in Sanchi , a good town in Madhya Pradesh in these days, the height of this stupa is 54 ft or we can say more than 12 meter, its diameter is 120 ft means 32 meter, its architecture style is Buddhist, it is secret place for the buddh’s followers, in year 1989 in the 13th session of UNESCO, UNESCO declared it cultural world heritage site of India

Facts about Sanchi Stupa

Name SanchiStupa
City Bhopal
Address Sanchi, Madhya Pradesh 464661
Country India
Continent Asia
Came in existence 300 BC
Built by Emperor Ashoka
Area covered in KM 46 km
Area covered in miles Na
Height around 54 feet.
Time to visit 6:30 am to 6:00 pm
When to visit November to February/March.
Unesco heritage 1989
Ref No of UNESCO 524
Coordinate 23.4873° N, 77.7418° E
Per year visitors 2500 years
Near by Airport Raja Bhoj airport
Near by River Betwa River

Sanchi Stupa History in Hindi




साँची का स्तूप मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के साँची नामक गांव में है, यह स्थल मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से मात्र ४६ किलोमीटर उत्तर पूर्व में स्थित है, ये विश्व प्रसिद्द ईमारत बुद्ध धर्म के अनुयायियों का एक तीर्थ स्थल है, जिसे तीसरी शताब्दी में मौर्य वंश के प्रतापी सम्राट अशोक ने बनवाया था, पहले अशोक हिन्दू धर्म में आस्था रखते थे, परंतु कलिंग विजय के उपरांत उन्होंने नरसंघार से दुखी होकर बुद्ध धर्म अपना लिया, जिसकी दीक्षा उनके स्वयं के भतीजे ने दी थी, जिसे अशोक ने एक बार जीवन दान दिया था।

यह एक अर्द्धचरनुमा ईमारत है, इसमें ही अशोक ने अपना धर्म चक्र सबसे ऊपर स्थापित किया है, इस ईमारत के निर्माण का पूर्ण देख रेख का काम सम्राट अशोक की पत्नी देवी ने किया था , सबसे महत्वपूर्ण बाण इस स्तूप की ये है की ये बुद्ध की अस्थियो के अवशेष को सुरक्षित रखने हेतु बनाया गया था, इस इमारत के चारो ओर तोरण द्वार है जो की काफी अलङ्कृतिक है, यह पूरी ईमारत ईंटो की बानी हुयी है, जो की मौर्यकालीन प्रथम ईमारत है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *