Chitradurga Fort, Location, Facts and History in Hindi

Chitradurga Fort is a world famous Heavenly Palace situated in Chitradurga district at Chickpet city of Karnataka, India. Lat Long of Chitradurga Fort is 14.2152°N 76.3953°E and address of Chitradurga Fort, Chickpet, Chitradurga, Karnataka 577501, Chitradurga Fort is situated 220 kilometres North West from Bangalore International Airport, 3 KM from Chitradurga Railway Station and 55 KM from Chitradurga Roadways bus stand, Chitradurga Fort was built in between 17th to 18th centuries by the dynastic rulers like Rashtrakutas, Chalukyas and Hoysalas as well as the Nayakas of Chitradurga, feudal lords of the Vijayanagar Empire.

Where is Chitradurga Fort Located in Chitradurga Karnataka India

Location Map of Chitradurga Fort Chitradurga in Karnataka India on Google Map

Facts about Chitradurga Fort

Name Chitradurga Fort
City Chitradurga
Address Chickpet, Chitradurga, Karnataka 577501
Country India
Continent Asia
Came in existence 18th century
Area covered in KM 1,500 acres
Height 976 m (3,202.1 ft)
Time to visit 6AM-6PM
Ticket time 6AM-6PM
Ref No of UNESCO 247
Coordinate 14.2160° N, 76.3989° E
Per year visitors 500year
Near by Airport Hubli Airport.
Near by River Vedavati river

History of Chitradurga Fort in Hindi

चित्रदुर्ग के किले का इतिहास सम्भवतः १५वी शताब्दी के अंत से १८वी शताब्दी के प्रारम्भ के बीच का है, इस किले को किसने बनवाया इसके कोई प्रामाणिक ऐतिहासिक श्रोत नहीं है, है इतिहासकार इस पर एकमत है की तत्कालीन जो भी उस क्षेत्र का अधिपति रहा उसने इस किले को बनवाने में योगदान दिया, जिसमे सबसे पहले राष्ट्रकूट, चालुक्य और होयसाल प्रमुख थे, इसके बाद नायक वंश कुछ समय तक रहा पर इनका क्षेत्र सिर्फ चित्रदुर्ग तक ही था, मूल बात ये है की जो भी विजयनगर साम्राज्य का अधिपति था उसका योगदान रहा इस किले के निर्माण में।

इस किले के अंदर १८ मंदिर है कुछ मस्जिदे है जो की हैदर अली के अतिक्रमण के बाद सम्भवता कुछ मंदिरो को तोड़ कर बनायीं गयी होगी, इस किले में पानी की कमी न हो इसलिए बरसाती पानी के संरक्षण की समुचित व्यवस्था थी, इस किले के लिए यहाँ के तत्कालीन शासको का हैदर अली से और उसके बाद अन्य राजाओ से कई बार युद्ध हुआ था, पहला १७६० में फिर १७७० इसके बाद 1799

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *