Facts and History about Sanchi Stupa

The height of Sanchi stupa is 54 ft or we can say more than 12 meter, its diameter is 120 ft means 32 meter, its architecture style is Buddhist, it is secret place for the buddh’s followers, in year 1989 in the 13th session of UNESCO, UNESCO declared it cultural world heritage site of India

Who Built Sanchi Stupa

Sanchi Stupa was originally made by emperor Ashoka in the 3rd century before christ, he was most powerful emperor of Maurya Dynasty, when he converted into buddha darm from hindu dharm, he created this stupa in Sanchi, a good town in Raisen city of Madhya Pradesh in these days

Sanchi Stupa Facts

Name SanchiStupa
City Bhopal
Address Sanchi, Madhya Pradesh 464661
Country India
Continent Asia
Came in existence 300 BC
Built by Emperor Ashoka
Area covered in KM 46 km
Area covered in miles Na
Height around 54 feet.
Time to visit 6:30 am to 6:00 pm
When to visit November to February/March.
Unesco heritage 1989
Ref No of UNESCO 524
Coordinate 23.4873° N, 77.7418° E
Per year visitors 2500 years
Near by Airport Raja Bhoj airport
Near by River Betwa River

Sanchi Stupa History in Hindi

साँची का स्तूप मध्य प्रदेश के रायसेन जिले के साँची नामक गांव में है, यह स्थल मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से मात्र ४६ किलोमीटर उत्तर पूर्व में स्थित है, ये विश्व प्रसिद्द ईमारत बुद्ध धर्म के अनुयायियों का एक तीर्थ स्थल है, जिसे तीसरी शताब्दी में मौर्य वंश के प्रतापी सम्राट अशोक ने बनवाया था, पहले अशोक हिन्दू धर्म में आस्था रखते थे, परंतु कलिंग विजय के उपरांत उन्होंने नरसंघार से दुखी होकर बुद्ध धर्म अपना लिया, जिसकी दीक्षा उनके स्वयं के भतीजे ने दी थी, जिसे अशोक ने एक बार जीवन दान दिया था।

Facts about Sanchi Stupa in Hindi

यह एक अर्द्धचरनुमा ईमारत है, इसमें ही अशोक ने अपना धर्म चक्र सबसे ऊपर स्थापित किया है, इस ईमारत के निर्माण का पूर्ण देख रेख का काम सम्राट अशोक की पत्नी देवी ने किया था , सबसे महत्वपूर्ण बाण इस स्तूप की ये है की ये बुद्ध की अस्थियो के अवशेष को सुरक्षित रखने हेतु बनाया गया था, इस इमारत के चारो ओर तोरण द्वार है जो की काफी अलङ्कृतिक है, यह पूरी ईमारत ईंटो की बानी हुयी है, जो की मौर्यकालीन प्रथम ईमारत है।

City of Golden Gate, San Francisco, India.

San Francisco a city in the comes under the California State of USA, the city is cultural, commercial, and financial center of Northern California.

In the San Francisco there is a strait on the west coast of North America that connects San Francisco Bay to the Pacific Ocean, since 1937, it has been spanned by the Bridge that actually connect San Francisco Peninsula and Marin Headlands.

The bridge that is in Between San Francisco Peninsula and Marin Headlands ie called Golden Gate Bridge because the bridge is situated over the strait that is called Golden Gate, so with this way we can say that San Francisco is the city which city is known as the city of golden gate.

Facts about city of golden gate.

Name City of golden gate
City San Francisco
Address Golden Gate Bridge, San Francisco, CA, USA
Country Ukraine
Continent Asia
Came in existence May 27, 1937
Area covered in KM 8,981 ft (2,737.4 m)
Height 746 ft (227.4 m)
Time to visit 4.00 am to 8.00 pm
Ticket time 4.00 am to 8.00 pm
Ref No of UNESCO 974
Coordinate 37°49′11″N 122°28′43″W
Per year visitors 10 million annual visitors
Near by Airport San Francisco Airport
Near by River Nanjing Yangtze River

Where is city of golden gate Located in USA, India

Location of golden gate, Located in USA, India . on Google Map

History of golden gate in Hindi

comming soon

About Lotus Temple in Hindi

लोटस टेंपल दिल्ली में 28.553325 उत्तर से 77.258600 पूर्व के समन्वय में स्थित है, यह बहाई धर्म के लोगों के लिए पूजा स्थल में से एक है, लोटस टेंपल का आकार इसके नाम के अनुसार है, मंदिर 24 दिसंबर 1986 में खोला गया था, कमल मंदिर निर्माण के मुख्य वास्तुकार फ़रीबोर्ज़ साहबा थे, जबकि स्ट्रक्चरल इंजीनियर फ्लिंट और नील थे, इस कमल महल या कमल मंदिर में एक साथ 2500 की बैठने की क्षमता के साथ अभिव्यक्तिवादी वास्तुकला शैली में बना कमल मंदिर, लोटस मंदिर का व्यास 70 मीटर (230 फीट) और ऊँचाई 34.27 मीटर है (112.4 फीट)

Lotus Temple Information

Lotus Temple is located in Delhi at the coordinates 28.553325 North to 77.258600 East, this is one of the worshiping place for the people of Baháʼí religion, the shape of Lotus Temple is as per its name flower-like, the temple was opened in 24th Dec 1986, the chief architect was Fariborz Sahba while Structural engineer was Flint & Neill, lotus temple made in the Expressionist Architectural style with the seating capacity of 2500 one time, the Diameter of Lotus temple is 70 meters (230 ft) and Height is 34.27 meters (112.4 ft)

Facts about Lotus Temple

Name Lotus Temple
City New Delhi,
Address New Delhi, India
Country India
Continent Asia
Came in existence 20th century.
Built by Persian architect Fariborz
Area covered in KM 1,484 km2 (573 sq mi)
Height 34.27 metres (112.4 ft)
Time to visit 9:00 AM – 4:30 PM.
Ticket time 9:30AM-6:30PM
When to visit February-March
Unesco heritage 32 UNESCO
Ref No of UNESCO 5921
Coordinate 28.5535° N, 77.2588° E
Per year visitors At a time 13000 people
Near by Airport Gandhi International Airport
Near by River Yamuna river

Lotus Temple History in Hindi

कमल मंदिर, भारत की राजधानी दिल्ली के नेहरू प्लेस के पास स्थित एक बहाई उपासना स्थल है। यह अपने आप में एक अदभूत मंदिर है। यहाँ पर न कोई मूर्ति है और न ही किसी प्रकार का कोई धार्मिक कर्म-कांड किया जाता है, भारत के लोगों के लिए कमल का फूल पवित्रता तथा शांति का प्रतीक होने के साथ ईश्वर के अवतार का संकेत चिह्न भी है। कमल मंदिर में प्रतिदिन देश और विदेश के लगभग आठ से दस हजार पर्यटक आते हैं। यहाँ का शांत वातावरण प्रार्थना और ध्यान के लिए सहायक है।

Facts about Lotus Temple in Hindi

मंदिर का उद्घाटन २४ दिसंबर १९८६ को हुआ लेकिन आम जनता के लिए यह मंदिर १ जनवरी १९८७ को खोला गया।
इसकी कमल सदृश आकृति के कारण इसे कमल मंदिर या लोटस टेंपल के नाम से ही पुकारा जाता है।यहाँ पर हर धर्म के लोग अपनी पूजा बिना शोर किये कर सकते है।
इस मंदिर में एक साथ २००० से ज्यादा लोग बैठ सकते है
इस मंदिर में चार कुंड है, जिनमे जल निरंनतर बहता रहता है।
मंदिर कुछ २० फिट की ऊंचाई पर है, जिस तक पहुंचने के लिए सीढिया है

You may also like to see in Delhi: Siri Fort New Delhi, Tughlaqabad Fort New Delhi, Adilabad Fort New Delhi, Purana Qila New Delhi, Salimgarh Fort New Delhi, About Lotus Temple in Hindi 

Where is Raghunath Temple, Uttar Pradesh , India.

Facts about Raghunath Temple

Name Raghunath Temple
City Jammu
Address Fatthu Chaugan, Pakki Dhaki, Old Heritage City, Jammu,
Country India
Continent Asia
Came in existence 1860
Area covered in KM 5 km
Height 5 feet
Time to visit 6.00 AM – 8.00 PM
Ticket time 6.00 AM – 8.00 PM
Coordinate 32.731°N 74.8638°E
Per year visitors 2000
Near by Airport Jammu Airport
Near by River Sutlej River

Where is Raghunath Temple Located Fatthu Chaugan, Pakki Dhaki, Old Heritage City, Jammu, India

Location of Raghunath Temple, Located Located Fatthu Chaugan, Pakki Dhaki, Old Heritage City, Jammu, India . on Google Map

History of Raghunath Temple in Hindi

Raghunath मंदिर को महाराजा रणवीर सिंह और उनके पिता महाराजा गुलाब सिंह ने 1822 में बनवाया था, और इस मंदिर को अपने गुरु बाबा प्रेम दास को समर्पित किया था | मंदिर में 7 ऐतिहासिक धार्मिक स्थल है, मंदिर परिसर के आन्‍तरिक हिस्‍सों में सोना लाया गया है, जो की तेज का प्रतिक है । परिसर के अंदर कई देवी और देवताओं की मूर्ति लगी हुई है |

मंदिर मुख्य पूजा स्थल में राम सीता और लक्ष्मण की विशाल मूर्तियाँ स्थापित की गई है | रघुनाथ मंदिर की विशेषता यह हैं कि इसमे रामायण और महाभारत काल के कई चरित्रों और मूर्तियों को विभिन्न कक्षों में रखा गया हैं | इसके अलावा इस मंदिर का निर्माण इस प्रकार से किया गया है की आप एक कक्ष से ही चारो धाम के दर्शन कर सकते हैं |

Where is Kasar Devi, Uttarakhand , India.

Facts about Kasar Devi

Name Kasar Devi
City Almora
Address Almora Rd, Khatyari, Almora, Uttarakhand 263601
Country India
Continent Asia
Came in existence 1890
Area covered in KM 30 km
Height
Time to visit 7 A.M. to 7 P.M
Ticket time 7 A.M. to 7 P.M
Coordinate 29°38’29.03″ N and79°39’47.39″ E
Per year visitors 2000
Near by Airport nearest international airport. Delhi
Near by River Kosi River

.

Where is Kasar Devi Located Almora Rd, Khatyari, Almora, Uttarakhand 263601, India

Location of Kasar Devi, Located Almora Rd, Khatyari, Almora, Uttarakhand 263601, India . on Google Map

History of Kasar Devi in Hindi

उत्तराखंड राज्य अल्मोड़ा जिले के निकट “कसार देवी” एक गाँव है | जो अल्मोड़ा क्षेत्र से 8 km की दुरी पर काषय (कश्यप) पर्वत में स्थित है | यह स्थान “कसार देवी मंदिर” के कारण प्रसिद्ध है | यह मंदिर, दूसरी शताब्दी के समय का है । उत्तराखंड के अल्मोडा जिले में मौजूद माँ कसार देवी की शक्तियों का एहसास इस स्थान के कड़-कड़ में होता है | अल्मोड़ा बागेश्वर हाईवे पर “कसार” नामक गांव में स्थित ये मंदिर कश्यप पहाड़ी की चोटी पर एक गुफानुमा जगह पर बना हुआ है |कसार देवी मंदिर में माँ दुर्गा साक्षात प्रकट हुयी थी | मंदिर में माँ दुर्गा के आठ रूपों में से एक रूप “देवी कात्यायनी” की पूजा की जाती है | इस स्थान में ढाई हज़ार साल पहले “माँ दुर्गा” ने शुम्भ-निशुम्भ नाम के दो राक्षसों का वध करने के लिए “देवी कात्यायनी” का रूप धारण किया था |

कसार देवी मंदिर की मान्यताये

आस्था , श्रधा , विश्वास और मंदिर आदि का बहुत ही गहरा सम्बन्ध है | क्यूंकि यदि व्यक्ति के मन में आस्था , श्रधा न हो तो मंदिर में रखी गयी मूर्ति भी उसके लिए पत्थर के समान लगती है |
मंदिर में जाने से कोई भी व्यक्ति कभी भी खाली हाथ नहीं लौटता है |
कसार देवी मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहाँ आने वाले भक्तो की हर मनोकामना अतिशीघ्र पूर्ण हो जाती है |

इस जगह में कुदरत की खूबसूरती के दर्शन तो होते ही हैं, साथ ही मानसिक शांति भी महसूस होती है |यह स्थान ध्यान ओर योग करने लिऐ बहुत ही उचित है । भक्तो को सैकडों सीढ़ियां चढ़ने के बाद भी थकान महसूस नही होती है । यहां आकर श्रद्धालु असीम मानसिक शांति का अनुभव करते हैं।

Where is Ujjayanta Palace, Uttar Pradesh , India.

Facts about Ujjayanta Palace.

Name Ujjayanta Palace
City Agartala,
Address Palace Compound, Agartala, India
Country India
Continent Asia
Came in existence 1901
Area covered in KM 1 sq. km
Height 86ft tall.
Time to visit 11AM-6PM
Ticket time 11AM-6PM
Coordinate 23.8373° N, 91.2827° E
Per year visitors 2000
Near by Airport Agartala Airport
Near by River Haora River

 

Where is Ujjayanta Palace Located Palace Compound, Agartala, India

Location of Ujjayanta Palace, Located Palace Compound, Agartala, India . on Google Map

History of Ujjayanta Palace in Hindi

यह महल एक वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है। नोबल पुरस्कार विजेता रविन्द्रनाथ टैगोर ने इसे उज्जयंता महल नाम दिया था। उज्जयंत महल का निर्माण महाराजा राधा किशोर मानिक ने सन् 1899-1901 ई. के दौरान करवाया था। किले में तीन गुंबद हैं। तीनों की ऊंचाई 86 फीट है। किले के निर्माण में लकड़ी की छतों का सुंदर इस्तेमाल देखने को मिलता है। किले के चारों तरफ चार मंदिरों का भी निर्माण कराया गया है। हरित परिसर में तालाब के किनारे मूर्तिकला के भी कुछ सुंदर नमूने देखे जा सकते हैं जो त्रिपुरा की कलाप्रेमी आवाम से आपको रूबरू कराते हैं। त्रिपुरा अंग्रेजी राज में प्रिंसले स्टेट हुआ करता था। देश आजाद होने के बाद 9 सितंबर 1949 को तत्कालीन महारानी कंचनप्रभा देवी और भारत सरकार के बीच हुए समझौते के बाद ये राज्य भारत सरकार का अंग बना। किले के भवन की दोनों मंजिलों संग्रहालय बनाया गया है। इस संग्राहलय में मानव विकास की कहानी, पूर्वोत्तर के राज्यों के बारे में जानकारी देती तस्वीरें लगी हैं। यहां तस्वीरों में आप पूरे त्रिपुरा का इतिहास देख सकते हैं। राज्य के सभी दर्शनीय स्थलों के बारे में जानकारी ली जा सकती है।

Where is Tripura Sundari Temple, Uttar Pradesh , India.

Facts about Tripura Sundari Temple.

Name Tripura Sundari Temple
City Udaipur
Address Udaipur, Agartala
Country India
Continent Asia
Came in existence 1501
Area covered in KM 55 km
Height 75 feet
Time to visit 6AM-7PM
Ticket time 6AM-7PM
Coordinate 23.5210° N, 91.5039° E
Per year visitors
Near by Airport Agartala Airport
Near by River Raison – River

Where is Tripura Sundari Temple Located Fulkumari, Udaipur, Tripura 799013, India

Location of Tripura Sundari Temple, Located Fulkumari, Udaipur, Tripura 799013, India . on Google Map

History of Tripura Sundari Temple in Hindi

माँ त्रिपुरा सुन्दरी का प्राचीन और प्रसिद्ध शक्तिपीठ राजस्थान के दक्षिणांचल में वागड प्रदेश (बाँसवाड़ा और डूंगरपुर का निकटवर्ती क्षेत्र) में अवस्थित है ।देवी का यह सुविख्यात मन्दिर बाँसवाड़ा से लगभग 19 की.मी.की दूरी पर स्थित है तथा तलवाड़ा से यह लगभग 5 की.मी. दूर है । त्रिपुरा सुंदरी का यह मन्दिर एक सिद्ध तांत्रिक शक्तिपीठ है, जिसकी लोक में बहुत मान्यता है ।देश के कोने-कोने से श्रद्धालु देवी की आराधना कर अपना मनोवांछित फल पाने वहाँ आते हैं । उमरई गाँव के पास सघन वन के मध्य बने इस प्राचीन मन्दिर में देवी की अठारह भुजाओं वाली काले पत्थर से बनी भव्य और सजीव प्रतिमा प्रतिष्ठापित है, जो त्रिपुरा सुन्दरी के नाम से विख्यात है । माँ त्रिपुरा सुन्दरी के इस शक्तिपीठ की प्रसिद्धि का एक प्रमुख कारण यह था कि देवी के इस स्थान के प्रति विभिन्न राजवँषोंकी बहुत आस्था एवं श्रद्धा थी । मालवा के परमार राजाओं के शासनकाल में त्रिपुरा सुन्दरी की पूजा-अर्चना का विशेष प्रबन्ध किया गया । लोकविश्वास है कि गुजरात के शासक भी देवी के इस मन्दिर में अपनी श्रद्धा भक्ति नवोदित करने आते थे । गुजरात के सोलंकी नरेश सिद्धराज जयसिंह की यह इष्ट देवी थी ।

Where is Mehtab Bagh, Uttar Pradesh , India.

Facts about Mehtab Bagh.

Name Mehtab Bagh
City Agra
Address Near Taj Mahal, Dharmapuri, Forest Colony, Nagla Devjit, Agra, Uttar Pradesh 282001
Country India
Continent Asia
Came in existence 1652
Area covered in KM 10 ha
Height 35 metres (115 ft)
Time to visit 6AM-7PM
Ticket time 6AM-7PM
Coordinate 27.1801° N, 78.0421° E
Per year visitors 2000
Near by Airport Agra Civil Enclave
Near by River Yamuna

Where is Mehtab Bagh Located Near Taj Mahal, Dharmapuri, Forest Colony, Nagla Devjit, Agra, Uttar Pradesh 282001
, India

Location of Mehtab Bagh, Located Near Taj Mahal, Dharmapuri, Forest Colony, Nagla Devjit, Agra, Uttar Pradesh 282001
, India . on Google Map

History of Mehtab Bagh in Hindi

मेहताब बाग़, उत्तर भारत के आगरा में स्थित चारबाग़ परिसर है। ये ताज महल परिसर और यमुना नदी के सामने स्थित आगरा किले की उत्तरी दिशा में स्थित है। बाग़ परिसर वर्गाकार का है जिसका क्षेत्रफल 300 x 300 meters (980 ft × 980 ft) है और ठीक ताज महल के सामने स्थित है। बारिशों के मौसम में, बाग़ की जमीं के कुछ हिस्सों में पानी भर जाता है। मेहताब बाग़ सदियों पुराना बगीचा परिसर है, जो सार्वजानिक निवासियों के लिए खुला हुआ है परन्तु अल्पावधि आगरा आगंतुकों के लिए वह जाना थोड़ा मुश्किल है। मेहताब बाग़ जिसे चांदनी बगीचा भी कहा जाता है का निर्माण 1500’s के दौरान मुग़ल सम्राट बाबर ने करवाया था, से ताज महल का उत्तम दृश्य देखने को मिलता है। मेहताब बाग़ मुग़ल द्वारा निर्मित उन ग्यारह बागों में से अंतिम बाग़ है जो यमुना नदी के साथ, ताज महल और आगरा किले के सामने स्थित है। सबसे पहला राम बाग़ था। इस बाग़ का निर्माण सम्राट बाबर में सं d. 1530 में करवाया था। ताज महल के इतिहास के मुताबिक, सम्राट शाह जहां ताज महल का निर्माण करने के लिए एक ऐसा स्थान ढूंढ रहे थे जिसके सामना एक चंद्रकार व् घास से ढका हुआ मैदान हो और साथ ही उस स्थान पर बाढ़ आने की आशंका काम हो और जो यमुना नदी के किनारे हो। इसके अलावा वे चाहते थे की उस स्थान से ताज महल का मनोरम दृश्य दिखाई दे। इसके बाद इस बाग़ का निर्माण “एक चांदनी सुख बाग़ जिसे मेहताब बाग़ कहा जाता है” के रूप में करवाया।

Where is Ram Bagh , Uttar Pradesh , India.

Facts about Ram Bagh .

Name Ram Bagh
City Agra
Address five kilometers northeast of the Taj Mahal in Agra,
Country India
Continent Asia
Came in existence 1528
Area covered in KM 3 KMs
Height
Time to visit 09:00 am – 06:00 pm
Ticket time 09:00 am – 06:00 pm
Coordinate 27°30′15.493″N 77°41′13.2.
Per year visitors 2000
Near by Airport Agra Civil Enclave
Near by River Yamuna river.

Where is Ram Bagh Located five kilometers northeast of the Taj Mahal in Agra, India

Location of Ram Bagh , Located five kilometers northeast of the Taj Mahal in Agra, India . on Google Map

History of Ram Bagh in Hindi

Where is Chini Ka Rauza, Uttar Pradesh , India.

Facts about Chini Ka Rauza.

Name Chini Ka Rauza
City Agra
Address Ram Bagh, Agra, Uttar Pradesh 282007
Country India
Continent Asia
Came in existence 1635
Area covered in KM Na
Height 40 feet
Time to visit 10AM-5PM
Ticket time 10AM-5PM
Ref No of UNESCO Na
Coordinate 27.2009° N, 78.0343° E
Per year visitors 2000
Near by Airport Agra Civil Enclave
Near by River Yamuna

Where is Chini Ka Rauza Located Ram Bagh, Agra, Uttar Pradesh 282007, India

Location of Chini Ka Rauza, Located Ram Bagh, Agra, Uttar Pradesh 282007, India . on Google Map

History of Chini Ka Rauza in Hindi

comming soon