Monument

Monument

Where is Raghunath Temple, Uttar Pradesh , India.

Facts about Raghunath Temple

Name Raghunath Temple
City Jammu
Address Fatthu Chaugan, Pakki Dhaki, Old Heritage City, Jammu,
Country India
Continent Asia
Came in existence 1860
Area covered in KM 5 km
Height 5 feet
Time to visit 6.00 AM – 8.00 PM
Ticket time 6.00 AM – 8.00 PM
Coordinate 32.731°N 74.8638°E
Per year visitors 2000
Near by Airport Jammu Airport
Near by River Sutlej River

Where is Raghunath Temple Located Fatthu Chaugan, Pakki Dhaki, Old Heritage City, Jammu, India

Location of Raghunath Temple, Located Located Fatthu Chaugan, Pakki Dhaki, Old Heritage City, Jammu, India . on Google Map

History of Raghunath Temple in Hindi

Raghunath मंदिर को महाराजा रणवीर सिंह और उनके पिता महाराजा गुलाब सिंह ने 1822 में बनवाया था, और इस मंदिर को अपने गुरु बाबा प्रेम दास को समर्पित किया था | मंदिर में 7 ऐतिहासिक धार्मिक स्थल है, मंदिर परिसर के आन्‍तरिक हिस्‍सों में सोना लाया गया है, जो की तेज का प्रतिक है । परिसर के अंदर कई देवी और देवताओं की मूर्ति लगी हुई है |

मंदिर मुख्य पूजा स्थल में राम सीता और लक्ष्मण की विशाल मूर्तियाँ स्थापित की गई है | रघुनाथ मंदिर की विशेषता यह हैं कि इसमे रामायण और महाभारत काल के कई चरित्रों और मूर्तियों को विभिन्न कक्षों में रखा गया हैं | इसके अलावा इस मंदिर का निर्माण इस प्रकार से किया गया है की आप एक कक्ष से ही चारो धाम के दर्शन कर सकते हैं |

Where is Kasar Devi, Uttarakhand , India.

Facts about Kasar Devi

Name Kasar Devi
City Almora
Address Almora Rd, Khatyari, Almora, Uttarakhand 263601
Country India
Continent Asia
Came in existence 1890
Area covered in KM 30 km
Height
Time to visit 7 A.M. to 7 P.M
Ticket time 7 A.M. to 7 P.M
Coordinate 29°38’29.03″ N and79°39’47.39″ E
Per year visitors 2000
Near by Airport nearest international airport. Delhi
Near by River Kosi River

.

Where is Kasar Devi Located Almora Rd, Khatyari, Almora, Uttarakhand 263601, India

Location of Kasar Devi, Located Almora Rd, Khatyari, Almora, Uttarakhand 263601, India . on Google Map

History of Kasar Devi in Hindi

उत्तराखंड राज्य अल्मोड़ा जिले के निकट “कसार देवी” एक गाँव है | जो अल्मोड़ा क्षेत्र से 8 km की दुरी पर काषय (कश्यप) पर्वत में स्थित है | यह स्थान “कसार देवी मंदिर” के कारण प्रसिद्ध है | यह मंदिर, दूसरी शताब्दी के समय का है । उत्तराखंड के अल्मोडा जिले में मौजूद माँ कसार देवी की शक्तियों का एहसास इस स्थान के कड़-कड़ में होता है | अल्मोड़ा बागेश्वर हाईवे पर “कसार” नामक गांव में स्थित ये मंदिर कश्यप पहाड़ी की चोटी पर एक गुफानुमा जगह पर बना हुआ है |कसार देवी मंदिर में माँ दुर्गा साक्षात प्रकट हुयी थी | मंदिर में माँ दुर्गा के आठ रूपों में से एक रूप “देवी कात्यायनी” की पूजा की जाती है | इस स्थान में ढाई हज़ार साल पहले “माँ दुर्गा” ने शुम्भ-निशुम्भ नाम के दो राक्षसों का वध करने के लिए “देवी कात्यायनी” का रूप धारण किया था |

कसार देवी मंदिर की मान्यताये

आस्था , श्रधा , विश्वास और मंदिर आदि का बहुत ही गहरा सम्बन्ध है | क्यूंकि यदि व्यक्ति के मन में आस्था , श्रधा न हो तो मंदिर में रखी गयी मूर्ति भी उसके लिए पत्थर के समान लगती है |
मंदिर में जाने से कोई भी व्यक्ति कभी भी खाली हाथ नहीं लौटता है |
कसार देवी मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहाँ आने वाले भक्तो की हर मनोकामना अतिशीघ्र पूर्ण हो जाती है |

इस जगह में कुदरत की खूबसूरती के दर्शन तो होते ही हैं, साथ ही मानसिक शांति भी महसूस होती है |यह स्थान ध्यान ओर योग करने लिऐ बहुत ही उचित है । भक्तो को सैकडों सीढ़ियां चढ़ने के बाद भी थकान महसूस नही होती है । यहां आकर श्रद्धालु असीम मानसिक शांति का अनुभव करते हैं।

Where is Ujjayanta Palace, Uttar Pradesh , India.

Facts about Ujjayanta Palace.

Name Ujjayanta Palace
City Agartala,
Address Palace Compound, Agartala, India
Country India
Continent Asia
Came in existence 1901
Area covered in KM 1 sq. km
Height 86ft tall.
Time to visit 11AM-6PM
Ticket time 11AM-6PM
Coordinate 23.8373° N, 91.2827° E
Per year visitors 2000
Near by Airport Agartala Airport
Near by River Haora River

 

Where is Ujjayanta Palace Located Palace Compound, Agartala, India

Location of Ujjayanta Palace, Located Palace Compound, Agartala, India . on Google Map

History of Ujjayanta Palace in Hindi

यह महल एक वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला हुआ है। नोबल पुरस्कार विजेता रविन्द्रनाथ टैगोर ने इसे उज्जयंता महल नाम दिया था। उज्जयंत महल का निर्माण महाराजा राधा किशोर मानिक ने सन् 1899-1901 ई. के दौरान करवाया था। किले में तीन गुंबद हैं। तीनों की ऊंचाई 86 फीट है। किले के निर्माण में लकड़ी की छतों का सुंदर इस्तेमाल देखने को मिलता है। किले के चारों तरफ चार मंदिरों का भी निर्माण कराया गया है। हरित परिसर में तालाब के किनारे मूर्तिकला के भी कुछ सुंदर नमूने देखे जा सकते हैं जो त्रिपुरा की कलाप्रेमी आवाम से आपको रूबरू कराते हैं। त्रिपुरा अंग्रेजी राज में प्रिंसले स्टेट हुआ करता था। देश आजाद होने के बाद 9 सितंबर 1949 को तत्कालीन महारानी कंचनप्रभा देवी और भारत सरकार के बीच हुए समझौते के बाद ये राज्य भारत सरकार का अंग बना। किले के भवन की दोनों मंजिलों संग्रहालय बनाया गया है। इस संग्राहलय में मानव विकास की कहानी, पूर्वोत्तर के राज्यों के बारे में जानकारी देती तस्वीरें लगी हैं। यहां तस्वीरों में आप पूरे त्रिपुरा का इतिहास देख सकते हैं। राज्य के सभी दर्शनीय स्थलों के बारे में जानकारी ली जा सकती है।

Where is Tripura Sundari Temple, Uttar Pradesh , India.

Facts about Tripura Sundari Temple.

Name Tripura Sundari Temple
City Udaipur
Address Udaipur, Agartala
Country India
Continent Asia
Came in existence 1501
Area covered in KM 55 km
Height 75 feet
Time to visit 6AM-7PM
Ticket time 6AM-7PM
Coordinate 23.5210° N, 91.5039° E
Per year visitors
Near by Airport Agartala Airport
Near by River Raison – River

Where is Tripura Sundari Temple Located Fulkumari, Udaipur, Tripura 799013, India

Location of Tripura Sundari Temple, Located Fulkumari, Udaipur, Tripura 799013, India . on Google Map

History of Tripura Sundari Temple in Hindi

माँ त्रिपुरा सुन्दरी का प्राचीन और प्रसिद्ध शक्तिपीठ राजस्थान के दक्षिणांचल में वागड प्रदेश (बाँसवाड़ा और डूंगरपुर का निकटवर्ती क्षेत्र) में अवस्थित है ।देवी का यह सुविख्यात मन्दिर बाँसवाड़ा से लगभग 19 की.मी.की दूरी पर स्थित है तथा तलवाड़ा से यह लगभग 5 की.मी. दूर है । त्रिपुरा सुंदरी का यह मन्दिर एक सिद्ध तांत्रिक शक्तिपीठ है, जिसकी लोक में बहुत मान्यता है ।देश के कोने-कोने से श्रद्धालु देवी की आराधना कर अपना मनोवांछित फल पाने वहाँ आते हैं । उमरई गाँव के पास सघन वन के मध्य बने इस प्राचीन मन्दिर में देवी की अठारह भुजाओं वाली काले पत्थर से बनी भव्य और सजीव प्रतिमा प्रतिष्ठापित है, जो त्रिपुरा सुन्दरी के नाम से विख्यात है । माँ त्रिपुरा सुन्दरी के इस शक्तिपीठ की प्रसिद्धि का एक प्रमुख कारण यह था कि देवी के इस स्थान के प्रति विभिन्न राजवँषोंकी बहुत आस्था एवं श्रद्धा थी । मालवा के परमार राजाओं के शासनकाल में त्रिपुरा सुन्दरी की पूजा-अर्चना का विशेष प्रबन्ध किया गया । लोकविश्वास है कि गुजरात के शासक भी देवी के इस मन्दिर में अपनी श्रद्धा भक्ति नवोदित करने आते थे । गुजरात के सोलंकी नरेश सिद्धराज जयसिंह की यह इष्ट देवी थी ।

Where is Mehtab Bagh, Uttar Pradesh , India.

Facts about Mehtab Bagh.

Name Mehtab Bagh
City Agra
Address Near Taj Mahal, Dharmapuri, Forest Colony, Nagla Devjit, Agra, Uttar Pradesh 282001
Country India
Continent Asia
Came in existence 1652
Area covered in KM 10 ha
Height 35 metres (115 ft)
Time to visit 6AM-7PM
Ticket time 6AM-7PM
Coordinate 27.1801° N, 78.0421° E
Per year visitors 2000
Near by Airport Agra Civil Enclave
Near by River Yamuna

Where is Mehtab Bagh Located Near Taj Mahal, Dharmapuri, Forest Colony, Nagla Devjit, Agra, Uttar Pradesh 282001
, India

Location of Mehtab Bagh, Located Near Taj Mahal, Dharmapuri, Forest Colony, Nagla Devjit, Agra, Uttar Pradesh 282001
, India . on Google Map

History of Mehtab Bagh in Hindi

मेहताब बाग़, उत्तर भारत के आगरा में स्थित चारबाग़ परिसर है। ये ताज महल परिसर और यमुना नदी के सामने स्थित आगरा किले की उत्तरी दिशा में स्थित है। बाग़ परिसर वर्गाकार का है जिसका क्षेत्रफल 300 x 300 meters (980 ft × 980 ft) है और ठीक ताज महल के सामने स्थित है। बारिशों के मौसम में, बाग़ की जमीं के कुछ हिस्सों में पानी भर जाता है। मेहताब बाग़ सदियों पुराना बगीचा परिसर है, जो सार्वजानिक निवासियों के लिए खुला हुआ है परन्तु अल्पावधि आगरा आगंतुकों के लिए वह जाना थोड़ा मुश्किल है। मेहताब बाग़ जिसे चांदनी बगीचा भी कहा जाता है का निर्माण 1500’s के दौरान मुग़ल सम्राट बाबर ने करवाया था, से ताज महल का उत्तम दृश्य देखने को मिलता है। मेहताब बाग़ मुग़ल द्वारा निर्मित उन ग्यारह बागों में से अंतिम बाग़ है जो यमुना नदी के साथ, ताज महल और आगरा किले के सामने स्थित है। सबसे पहला राम बाग़ था। इस बाग़ का निर्माण सम्राट बाबर में सं d. 1530 में करवाया था। ताज महल के इतिहास के मुताबिक, सम्राट शाह जहां ताज महल का निर्माण करने के लिए एक ऐसा स्थान ढूंढ रहे थे जिसके सामना एक चंद्रकार व् घास से ढका हुआ मैदान हो और साथ ही उस स्थान पर बाढ़ आने की आशंका काम हो और जो यमुना नदी के किनारे हो। इसके अलावा वे चाहते थे की उस स्थान से ताज महल का मनोरम दृश्य दिखाई दे। इसके बाद इस बाग़ का निर्माण “एक चांदनी सुख बाग़ जिसे मेहताब बाग़ कहा जाता है” के रूप में करवाया।

Where is Ram Bagh , Uttar Pradesh , India.

Facts about Ram Bagh .

Name Ram Bagh
City Agra
Address five kilometers northeast of the Taj Mahal in Agra,
Country India
Continent Asia
Came in existence 1528
Area covered in KM 3 KMs
Height
Time to visit 09:00 am – 06:00 pm
Ticket time 09:00 am – 06:00 pm
Coordinate 27°30′15.493″N 77°41′13.2.
Per year visitors 2000
Near by Airport Agra Civil Enclave
Near by River Yamuna river.

Where is Ram Bagh Located five kilometers northeast of the Taj Mahal in Agra, India

Location of Ram Bagh , Located five kilometers northeast of the Taj Mahal in Agra, India . on Google Map

History of Ram Bagh in Hindi

Where is Chini Ka Rauza, Uttar Pradesh , India.

Facts about Chini Ka Rauza.

Name Chini Ka Rauza
City Agra
Address Ram Bagh, Agra, Uttar Pradesh 282007
Country India
Continent Asia
Came in existence 1635
Area covered in KM Na
Height 40 feet
Time to visit 10AM-5PM
Ticket time 10AM-5PM
Ref No of UNESCO Na
Coordinate 27.2009° N, 78.0343° E
Per year visitors 2000
Near by Airport Agra Civil Enclave
Near by River Yamuna

Where is Chini Ka Rauza Located Ram Bagh, Agra, Uttar Pradesh 282007, India

Location of Chini Ka Rauza, Located Ram Bagh, Agra, Uttar Pradesh 282007, India . on Google Map

History of Chini Ka Rauza in Hindi

comming soon

Where is Ramnagar Fort, Uttar Pradesh , India.

Facts about Ramnagar Fort.

Name Ramnagar Fort
City Varanasi
Address Kila Road, Ramnagar Crossing, Varanasi, Uttar Pradesh 221008
Country India
Continent Asia
Came in existence 17th-century
Area covered in KM 14 kilometres (8.7 mi)
Height
Time to visit 10AM-5PM
Ticket time 10AM-5PM
Ref No of UNESCO
Coordinate 25.2699° N, 83.0246° E
Per year visitors
Near by Airport Lal Bahadur Shastri International Airport
Near by River Ganga River

Where is Ramnagar Fort , Varanasi, Uttar Pradesh 221008, India

Location of Ramnagar Fort, Located Kila Road, Ramnagar Crossing, Varanasi, Uttar Pradesh 221008, India . on Google Map

History of Ramnagar Fort in Hindi

comming soon

Where is Kuchesar fort, Uttar Pradesh , India.

Facts about Kuchesar fort.

Name Kuchesar fort
City Bulandshahr
Address Kuchesar Rd , Distt Bulandshahar, Kuchesar, Uttar Pradesh 203402
Country India
Continent Asia
Came in existence 18th century
Area covered in KM 84 kms.
Height
Time to visit 6AM-10PM
Ticket time 6AM-10PM
Ref No of UNESCO
Coordinate 28° 41′ 0″ North, 77° 57′ 0″ East
Per year visitors
Near by Airport Indira Gandhi International Airport
Near by River Ganges

Where is Kuchesar fort , Uttar Pradesh 203402, India

Location of Kuchesar fort, Located Kuchesar Rd , Distt Bulandshahar, Kuchesar, Uttar Pradesh 203402, India . on Google Map

History of Kuchesar fort in Hindi

comming soon

Where is Kalinjar Fort, Uttar Pradesh , India.

Facts about Kalinjar Fort.

Name Kalinjar Fort
City Banda
Address Banda District, Kalinjar
Country India
Continent Asia
Came in existence 10th century
Area covered in KM 59 kms
Height 244m.
Time to visit 6AM-10PM
Ticket time 6AM-10PM
Ref No of UNESCO
Coordinate 24.9997°N 80.4852°E
Per year visitors
Near by Airport airport is at Khajuraho,
Near by River Payaswani river

Where is Kalinjar Fort Located Banda District, Kalinjar, India

Location of Kalinjar Fort, Located in Banda District, Kalinjar , India . on Google Map

History of Kalinjar Fort in Hindi

पुरातत्व विभाग ने ऐतिहासिक कालिंजर दुर्ग के प्रति पर्यटकों को रिझाने की कवायद शुरू की है। इसी क्रम में ऐतिहासिक दुर्ग में स्थापित हजारों मूर्तियों, अवशेषों और शिलालेखों का अध्ययन व छायांकन किया जा रहा है। बीते तीन दिनों में किले के राजा अमान सिंह महल में 1800 प्रतिमाओं, उनके अवशेषों तथा शिलालेखों का अध्ययन और छायांकन किया जा चुका है। पुरातत्व विभाग के सहयोग से यह महत्वपूर्ण काम आईपीएस अधिकारी एडीजी विजय कुमार करा रहे हैं।कालिंजर विकास संस्थान के संयोजक बीडी गुप्त ने बताया कि अभी लगभग 1200 प्रतिमाओं का अध्ययन और छायांकन बाकी है। यह काम पुरातत्व विभाग लखनऊ सर्किल के अधिकारी दिवाकर सिंह के सहयोग से किया जा रहा है।हाल ही में यहां अपने तीन दिवसीय कालिंजर प्रवास के दौरान आईपीएस विजय कुमार और दिवाकर सिंह ने संयुक्त प्रयासों से यह काम अंजाम दिया है। पुरातत्व अधिकारी दिवाकर सिंह ने कहा कि यहां उपलब्ध बड़ी संख्या में संग्रहीत और सुरक्षित श्रेष्ठ मूर्तियां एक उच्चकोटि के संग्रहालय के लिए पर्याप्त हैं।कालिंजर में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए एक अच्छे आधुनिक संग्रहालय की बेहद जरूरत है। संयोजक बीडी गुुप्त ने बताया कि प्राचीन स्मारक सुरक्षा कानून 1905 में बना था। तभी से पूरा कालिंजर दुर्ग और परिसर के ध्वस्त मंदिरों की मूर्तियां सुरक्षित घोषित कर दी गई थीं।इनको नुकसान पहुंचाना दंडनीय अपराध है। एक शताब्दी से अधिक समय से मूर्तियाें का यह विशाल भंडार राजा अमान सिंह के महल में सुरक्षित है। पिछले माह यहां आए केंद्र सरकार के संस्कृति सचिव रवींद्र सिंह ने कालिंजर दुर्ग के विकास का आश्वासन दिया था। उन्होंने मूर्तियों की दुर्दशा पर चिंता जताई थी।