Kuchaman Fort History |

Tag Archive: Kuchaman Fort history

Kuchaman Fort Rajasthan

Kuchaman Fort is a world famous Historical Monument in Rajasthan located in Nagaur is a City of Rajasthan under Nagaur District, India, Lat Long of Kuchaman Fort is 27.154° N, 74.8598° E and address of Kuchaman Fort is The Kuchaman Fort P.O. Kuchaman, Distt. Nagaur – 341508, Rajasthan (India), Kuchaman Fort is only 135 km North East side from Jodhpur Airport, As per the historians some part of Kuchaman Fort was constructed during 760 A.D by the rulers of Gujjar Pratihara Dynasty, and the next level rulesrs carried on this work.

Kuchaman Fort Heritage Hotel

The Royal Family of Kuchaman Fort and care taker of this Kuchaman Fort, made a Heritage Hotel inside this Kuchaman Fort for the tourist and foreigner visitors, you can stay in this Kuchaman Fort by paying same amount of money, as this was a royal palace before some time so you can feel like that.

Facts about Kuchaman Fort

Name Kuchaman Fort
City Nagaur
Address The Kuchaman Fort P.O. Kuchaman, Distt. Nagaur – 341508, Rajasthan (India)
District Nagaur
State Rajasthan
Country India
Continent Asia
Time to visit Now it is a Heritage Hotel
Coordinate 27.154° N, 74.8598° E
Per year visitors 3000 to 15000
Official Website http://www.kuchamanfort.com/
Near by Airport Jodhpur
Contact Numbers Phone: +91-1586-20882, 220884, 141-2389077, 2389073

Where is Kuchaman Fort Located in Rajasthan, India

Location of Kuchaman Fort Located in Rajasthan India on Google Map

History of Kuchaman Fort in Hindi

कुचामन का किला भारत के इतिहास में और राजस्थान के इतिहास में भी एक ऐतिहासिक धरोहर है, क्युकी इस किले में निवास करने वाले कुचामन लोगो ने सबसे पहले व्यापर को बढ़ावा दिया था, ये नमक निर्माण के क्षेत्र को नियंत्रित करते थे और ऐसा करते करते ये लोग नमक की सबसे बड़ी झील सांभर झील तक अपना आधिपत्य करने में सफल हो गए थी।

कुचामन का किला राजस्थान के जिलों में एक नागौर जिले में है, इस कुचामन के किले का इतिहास १२०० साल पुराना है जब यहाँ पर 760 ईस्वी में गुज्जर प्रतिहार वंश के लोग राज किया करते थे, कहा जाता है की इस किले का कुछ भाग उन्होंने ही बनवाया था, इसके बाद यहाँ पर ९६० ईस्वी में चौहान शासको का आधिपत्य हो गया।

जब चौहान लोग कुछ कमजोर हुए to यहाँ पर गौर शासक आ गए, और 1724 में इनको हरा कर राठौर लोग यहाँ के शासक बन गए जो की भारत के स्वतंत्रता तक बने रहे, देश के स्वतंत्रत होने के बाद इस पूरा भूभाग भारत गणराज्य के अंतर्गत आ गया था, नयी युवा पीढ़ी ने इस किले के कुछ भाग को एक होटल का रूप देकर एक नयी परम्परा का शुभरम्भ कर दिया।